Saturday, April 20, 2013

इंसान के लिए भी इंसान इंसान नहीं रहा

सदियों की हमारी सभ्यता का हाल अब यही रहा
इंसान के लिए भी इंसान इंसान नहीं रहा 

नेता कहके सर पे जिसे बिठाये थे 
सत्ता के नशे में तन के बेठा है 
जिसे सौंपा था हिफाज़त का जिम्मा 
वही  लूटेरा बन के बेठा है 

हकीम, जिसे माना था खुदा 
कर रहा जिस्म का सौदा है 
शिक्षा का जो मंदिर था पहले 
वह व्यापारियों का अड्डा है  

खुदगर्ज़ी में अब दूसरों का खयाल नहीं रहा 
इंसान के लिए भी इंसान इंसान नहीं रहा 

सब फरयादी है तो कानून कौन तोड़ रहा है
कोई जुर्म कर रहा है तो कोई जुर्म होते देख रहा है  
बेटी को किसी का बेटा छेड़ रहा है 
तो बेटा किसी की बेटी को छेड़ रहा है 

अपने आपको बचाने के फिराक में 
हर कोई दुसरे की तरफ इशारा कर  रहा है 
कोई आग लगा के तमाशा देख रहा है 
तो कोई उसी आग में हाथ सेक रहा है 

खुद के गिरेबां में झाँकने का मजाल नहीं रहा 
इंसान के लिए भी इंसान इंसान नहीं रहा

सदियों की हमारी सभ्यता का हाल अब यही रहा  
इंसान के लिए भी इंसान इंसान नहीं रहा 
-----------------------------------------------------------------
Sadiyon ki hamari sabhyata ka haal ab yahi raha
Insaan ke liye bhi insaan insaan nahin raha

Neta kahke sar pe jise bithaye the
Satta ke nashe me tan ke baitha hai 
Jise saumpa tha hifazat ka jimma
Wohi lootera ban ke baitha hai

Hakeem, jise mana tha khuda
Kar raha jism ka sauda hai
Shiksha ka jo mandir tha pahle
Woh vyapariyon ka adda hai

Khudgarzi me dusron ka ab khayal nahin raha
Insaan ke liye bhi insaan insaan nahin raha

Sab faryadi hai to kanoon kaun tod raha hai
Koi jurm kar raha hai to koi jurm hote dekh raha hai
Beti ko kisi ka beta chhed raha hai
To beta kisi ki beti ko chhed raha hai

Apne aapko bachane ke firaq me
Har koi dusre ki taraf ishara kar raha hai
Koi aag laga ke tamasha dekh raha hai
To koi usi aag me haath sek raha hai

Khud ke gireban me jhankne ka majal nahin raha
Insaan ke liye bhi insaan insaan nahin raha

Sadiyon ki hamari sabhyata ka haal ab yahi raha
Insaan ke liye bhi insaan insaan nahin raha



Wednesday, April 17, 2013

जो मेरे सामने तू आती है

हर बात मेरे लबों पे रुक जाती है
जो मेरे सामने तू आती है

तू पलकें उठाके मुझे देखा न कर
मेरी नज़रें तेरी आँखों में थम जाती है

उन थरकती होठों को कुछ कहने न दे
बेवाक मेरी जुबां लडखडा जाती है

वह लट को अपने रुखसार पे ठहरने न दे
मेरी ज़हन में वही तस्वीर छप जाती है

पर यह सुनके तू मुझसे दूर न जाया कर
फिर मेरी  निगाहें तुझे ही बुलाती  हैं

धडकनों की रफ़्तार बढ़ जाती है
जो मेरे सामने तू आती है

हर बात मेरे लबों पे रुक जाती है
जो मेरे सामने तू आती है

----------------------------------------------

Har baat mere labon pe ruk jati hai
Jo mere saamne tu aati hai

Tu palken uthake mujhe dekha na kar
Meri nazren teri aankhon mein tham jati hai

Un tharakti hothon ko kuch kahne na de
Bewak meri zuban ladkhada jati hai

Woh lat ko apne rukhsaar pe thaharne na de
Meri zahan mein woh tasveer chhap jati hai

Par yeh sunke tu mujhse door na jaya kar
Meri nigahen phir tujhe hi bulati hai

Dhadkanon ki raftaar badh jati hai
Jo mere saamne tu aati hai

Har baat mere labon pe ruk jati hai
Jo mere saamne tu aati hai


Saturday, April 13, 2013

असमंजस


वह सुबह भी है वह शाम भी; 
वह दिन भी है वह रात भी;
पर कुछ अधूरा सा है आज तो!
मन बावरा सा है आज तो!
मैं ढूंढ रहा हूँ क्या?
मैं ढूंढ रहा हूँ किसे?
कुछ मिलेगा मुझे आज तो!
या कोई ढूंढेगा मुझे आज तो!

मैं वहां हूँ जहाँ होना था?
या मैं वहां था जहाँ होना था?
मैं खुद को भूल गया हूँ आज तो!
मैं खुद को खोज रहा हूँ आज तो!

मन मचल रहा है बहुत?
या मन शिथिल हुआ है बहुत?
ये सूनापन चुभ रहा है आज तो!
धैर्य दीपक बुझ रहा है आज तो!
 
वह सुबह भी है वह शाम भी; 
वह दिन भी है वह रात भी;
पर कुछ अधूरा सा है आज तो!
मन बावरा सा है आज तो!
----------------------------------------------
Woh subah bhi hai woh sham bhi
Woh din bhi hai woh raat bhi
Par kuch adhoora sa hai aaj to
Man bawra sa hai aaj to

Main dhoondh raha hun kya?
Main dhoondh raha hun kise?
Kuch milega mujhe aaj to
Ya koi dhoondhega mujhe aaj to

Main wahan hun jahan hona tha?
Ya main wahan tha jahan hona tha?
Main khud ko bhool gaya hun aaj to
Main khud ko khoj raha hun aaj to

Man machal raha hai bohut?
Ya man shithil hua hai bohut?
Yeh suna pan chubh raha hai aaj to
Dhairya deepak bujh raha hai aaj to

Woh subah bhi hai woh sham bhi
Woh din bhi hai woh raat bhi
Par kuch adhoora sa hai aaj to
Man bawra sa hai aaj to