Saturday, April 20, 2013

इंसान के लिए भी इंसान इंसान नहीं रहा

सदियों की हमारी सभ्यता का हाल अब यही रहा
इंसान के लिए भी इंसान इंसान नहीं रहा 

नेता कहके सर पे जिसे बिठाये थे 
सत्ता के नशे में तन के बेठा है 
जिसे सौंपा था हिफाज़त का जिम्मा 
वही  लूटेरा बन के बेठा है 

हकीम, जिसे माना था खुदा 
कर रहा जिस्म का सौदा है 
शिक्षा का जो मंदिर था पहले 
वह व्यापारियों का अड्डा है  

खुदगर्ज़ी में अब दूसरों का खयाल नहीं रहा 
इंसान के लिए भी इंसान इंसान नहीं रहा 

सब फरयादी है तो कानून कौन तोड़ रहा है
कोई जुर्म कर रहा है तो कोई जुर्म होते देख रहा है  
बेटी को किसी का बेटा छेड़ रहा है 
तो बेटा किसी की बेटी को छेड़ रहा है 

अपने आपको बचाने के फिराक में 
हर कोई दुसरे की तरफ इशारा कर  रहा है 
कोई आग लगा के तमाशा देख रहा है 
तो कोई उसी आग में हाथ सेक रहा है 

खुद के गिरेबां में झाँकने का मजाल नहीं रहा 
इंसान के लिए भी इंसान इंसान नहीं रहा

सदियों की हमारी सभ्यता का हाल अब यही रहा  
इंसान के लिए भी इंसान इंसान नहीं रहा 
-----------------------------------------------------------------
Sadiyon ki hamari sabhyata ka haal ab yahi raha
Insaan ke liye bhi insaan insaan nahin raha

Neta kahke sar pe jise bithaye the
Satta ke nashe me tan ke baitha hai 
Jise saumpa tha hifazat ka jimma
Wohi lootera ban ke baitha hai

Hakeem, jise mana tha khuda
Kar raha jism ka sauda hai
Shiksha ka jo mandir tha pahle
Woh vyapariyon ka adda hai

Khudgarzi me dusron ka ab khayal nahin raha
Insaan ke liye bhi insaan insaan nahin raha

Sab faryadi hai to kanoon kaun tod raha hai
Koi jurm kar raha hai to koi jurm hote dekh raha hai
Beti ko kisi ka beta chhed raha hai
To beta kisi ki beti ko chhed raha hai

Apne aapko bachane ke firaq me
Har koi dusre ki taraf ishara kar raha hai
Koi aag laga ke tamasha dekh raha hai
To koi usi aag me haath sek raha hai

Khud ke gireban me jhankne ka majal nahin raha
Insaan ke liye bhi insaan insaan nahin raha

Sadiyon ki hamari sabhyata ka haal ab yahi raha
Insaan ke liye bhi insaan insaan nahin raha



2 comments: