Tuesday, March 29, 2011

गर यह पता होता

फिर  कभी  न  मिलने  वाले  थे 
                                गर  यह  पता  होता 
उन  दिनों  शायद  मैं 
                                कुछ  देर  कम  सोता 

जब  भी  मैं  तुझे  छत  पर  देखता 
                                मेरी  राह  ताकते  हुए 
जब  भी  तू  हसती  रहती  थी 
                                मेरी  नकल करते  हुए 

जब  भी  तू  नाचती  थी 
        बेखबर  मेरी  मौजूदगी  से 
भनक  ही  से  मेरी  जब  तू 
                                भाग  जाती  थी  रोशनी से 

मेरे  चेहरे  के  रंगत  में 
                               निखार ज़रूर कुछ  ज्यादा  होता 
और  उन  दिनों  शायद  मैं 
                               कुछ  देर  कम  सोता 
                               
फिर  कभी  न  मिलने  वाले  थे 
                               गर  यह  पता  होता 
उन  दिनों  शायद  मैं 
                               कुछ  देर  कम  सोता 
                               




                               

Monday, March 21, 2011

पूर्वानुभव (Deja Vu)

वह रोशनी वही बुझी बुझी सी है
वह डालियाँ वही रूखी रूखी सी है
वह रास्ते वही हैं ऊबड़ खाबड़ 
वह नदिया वही सूखी सूखी सी है 

वह पनघट पहचाना सा लगे 
वह राही दीवाना सा लगे 
सहमायी सी वही युवती खडी
ठहरा यह पल ठिकाना सा लगे 

यह कैसी अजीब कश्मकश है 
वहम या शायद कोई अक्स है 
अनदेखा अंजाना हर राह पर 
जाना पहचाना सा हर शख्स है  

हर पुतला लगे आदमी ठहरा सा
हर आदमी चलता फिरता पुतला सा 
यूँ लगा मुझे इस घडी जैसे  
इन्ही रास्तों से कभी मैं गुज़रा था 

अपना अनुभव ज़रूर बतायें