Friday, February 13, 2009

सो जाओ वह बात कहूँ


माथे पे तेरे शिकन की परछाई न आ जाये,

                                                        दिल डरता है!

जुवान से मीठी शहद की बहाव कहीं न थम जाए,

                                                        दिल डरता है!

आँखों के समंदर में तूफ़ान कहीं न उमड़ आये,

                                                        दिल डरता है!

रंग अपना बदल कर चाँद बादलों में कहीं न छिप जाए,

                                                        दिल डरता है!

ऐसे में अधूरा अफसाना

                 तुम से मैं भला कैसे कहूँ

सुन न चाहो जो तुम वह अगर

                 सो जाओ वह बात कहूँ

लेखक: महाराणा गणेश
अपना अनुभव ज़रूर बतायें


No comments:

Post a Comment